भारत के साथ ही पाकिस्तान मनाता था अपनी आज़ादी का जश्न लेकिन दो साल के बाद हुआ कुछ ऐसा कि…

15 अगस्त 2017 को हमारी आज़ादी को 70 साल पूरे हो गये हैं और हम अपना 71वां स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं. इस मौके पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 50 मिनट के भाषण के दौरान पूरे देश को एकजुट होने की बात कही. उन्होंने इस मौके पर पाकिस्तान और चीन जैसे विरोधियों को दो टूक में सच से सामना करवा दिया. उन्होंने कहा कि “भारत को कमजोर आंकना किसी भी देश के लिए ठीक नही होगा, भारत अपनी सुरक्षा करने में सक्षम है, चाहे वो समंदर हो या सीमा हो, साइबर हो या स्पेस हो.”

Source

जैसा कि हम सब जानते हैं कि अंग्रेजों की दासता से हमें 15 अगस्त 1947 के दिन आज़ादी मिली थी लेकिन हिंदुस्तान की आज़ादी के साथ ही एक नये देश का जन्म हुआ था और जिसे पाकिस्तान कहते हैं. ज्यादातर लोग यही जानते हैं कि अंग्रेज हिंदुस्तान को आजाद करने से पहले भारत का बंटवारा करवा के गये थे. बात तो सही है कि भारत का बंटवारा अंग्रेजों ने करवाया और 14 अगस्त 1947 को पाकिस्तान अस्तित्व में आया.

Source

इस तथ्य को मानकर लोगों का मानना है कि पाकिस्तान अपना स्वतंत्रता दिवस हर साल 14 अगस्त को मनाता है यानी भारत के स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले. पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस के बारे में आज हम आपको एक ऐसी जानकारी देने जा रहे हैं जो शायद ही आप जानते होंगे.

Source

पाकिस्तान भी 15 अगस्त को मानता था अपना स्वतंत्रता दिवस

दरअसल पाकिस्तान भी हिंदुस्तान की तरह अपना स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त को ही मनाता था और ये सिलसिला हिंदुस्तान से अलग होने के दो साल बाद तक चला. यानी 1947 और 1948, इन दो सालों तक पाकिस्तान भी 15 अगस्त को अपना स्वतंत्रता दिवस मनाता था लेकिन मोहम्मद अली जिन्ना के मरने के बाद पाकिस्तान ने तारीख बदल ली और 15 अगस्त से 14 अगस्त कर ली.

Source

कहा जाता है कि पाकिस्तान पहले अंग्रेजों से मिली आज़ादी का जश्न मनाता था लेकिन अब वो भारत से अलग होने का जश्न मनाता है. जिससे उसकी सोच साफ जाहिर होती है.

Source

आपको बता दें कि जिन्ना, जिसकी वजह से पाकिस्तान बना, उसकी मौत 11 सितम्बर 1948 को हुई थी. उसके मरने के बाद पाकिस्तान ने अपनी आज़ादी की तारीख भी बदल दी.

Source

पाकिस्तान जब नया मुल्क बना तो 15 अगस्त 1947 को जिन्ना ने अपने भाषण में कहा था कि “पाकिस्तान दुनिया में शांति और समृद्धि के लिए काम करेगा.” उस दिन दिया गया जिन्ना का भाषण और आज के पाकिस्तान की हालत दोनों आमने-सामने विरोधी के रूप में खड़े हैं. पाकिस्तान आज हिंसा और अशांति के लिए नया नाम बन चुका है.

Source

आज हालत ये हो चुकी है कि पूरी दुनिया में पाकिस्तान और उसके नागरिकों को शक की निगाह से देखा जाता है. पाकिस्तान की आवाम को ही नही पता रहता कि उसके देश में कहां और कौन सा आतंकवादी छिपा हुआ है.

Source

भारत की आज़ादी के 70 साल पूरे होने के मौके पर पीएम मोदी ने लाल किले से जो भाषण दिया उसमें चीन और पाकिस्तान को इशारों-इशारों में आगाह किया कि भारत हर क्षेत्र में अपनी सुरक्षा करने में सक्षम है. मोदी ने सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र करते हुए भारतीय सैनिकों की बहादुरी का जिक्र किया.

Source

इतना ही नही पीएम ने आतंकवाद से सुलग रहे कश्मीर में शांति की पहल पर बात करते हुए कहा कि “कश्मीर में शांति गोली और गाली से नही बल्कि गले लगाने से आएगी लेकिन आतंकवाद को सख्त जवाब दिया जायेगा.”

Facebook Comments