बलूची नागरिक ने कहा जाधव मामले में झूठ बोल रहा है पाकिस्तान जरूरत पड़ी तो सबूत के तौर पर पेश करूँगा…

पाकिस्तान द्वारा भारत को दिए गए धोखों की लिस्ट बहुत लंबी है. पाकिस्तान भारत से अलग होकर ही बना और बनने के बाद से ही उसने भारत के खिलाफ काम करना शुरू कर दिया था. अपनी नापाक हरकतों को पूरा करने के लिए पाकिस्तान ने भारत पर कई बार युद्ध थोपे और हर बार ही उसे भारत ने पटखनी दी. आज भी भारत और पाकिस्तान के बीच हालात बिगड़े हुए हैं इसके पीछे भी पाकिस्तान का अड़ियल और मुर्खता पूर्ण रवैया है. पाकिस्तान कई बार झूठ का भी सहारा लेता है. ऐसा ही झूठ उसने कुलभूषण जाधव के मामले में भी बोला.

source

पाकिस्तान का बस चलता तो अब तक दे चुका होता जाधव को फांसी

आप जानते होंगे कि भारत के नागरिक कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान ने अपनी जेल में बंद करके रखा है. पाकिस्तान की मिलिट्री कोर्ट ने जधाव को फांसी की सजा सुनाई है और अगर पाकिस्तान के बस में बात होती तो शायद वो अब तक कुलभूषण जाधव को फांसी पर लटका चुका होता लेकिन इस मामले में दुनिया की सर्वोच्च अदालत ने फांसी पर रोक लगा दी है. इसीलिए पाकिस्तान की हिम्मत नहीं है कि वो कोई भी गलत कदम उठा सके.

source

एक बलूची नागरिक ने खोल दी पाकिस्तान की पोल 

इस मामले में अब भारत के एक टीवी चैनल ने खुलासा किया है. इस खुलासे की मानें तो पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को कभी पकड़ा ही नहीं था. वो झूठ बोलता है कि उसने जाधव को गिरफ़्तार किया था. बलूचिस्तान की आजादी के आंदोलन के कार्यकर्ता मेहराब सरजाव ने ये बड़ा खुलासा किया है. उन्होंने बताया कि पाकिस्तान ने कभी जाधव को पकड़ा ही नहीं था. जाधव को आतंकी संगठन लश्कर-ए-खुरासन ने पकड़ा और पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI के हवाले कर दिया. मेहराब ने आगे ये भी कहा कि अगर आवश्यकता पड़ी तो इस बात का सबूत वो अंतरराष्ट्रीय अदालत में भी पेश करेंगे. मेहराब का कहना है कि जाधव को पाकिस्तान ने अपने जाल में फंसाया था.

source

एक आदिवासी कुनबे को दिया गया था किडनैप करने का काम

मेहराब सरजाव ने जाधव मामले पर बात करते हुए भारतीय टीवी चैनल को बताया कि जधाव को किडनैप करने के लिए बलूच आदिवासी कुनबे जरदारी और कुबदानी का इस्तेमाल किया गया था. उन्हें इस तरह से जाल में फंसाया गया कि वो खुद भी कुछ समझ नहीं पाया होगा उसे वहीँ ले जाया गया जहाँ ले जाना पहले से ही तय किया जा चूका था. उन्होंने आगे कहा कि, ‘जाधव को अगवा करने का ठेका लश्कर ए खुरासन को मिला था जो फिरौती के लिए दूसरे देशों से आए नागरिकों को अगवा करने में एक्सपर्ट है. जाधव से गलती सिर्फ ये हुई कि वो बिजनेस के मोह में अपहरण के नापाक जाल में फंसते चले गए.’

source

जाधव बिजनेस को आगे ले जाना चाहते थे. बिजनेस को आगे बढ़ाने के लालच ने उनको ऐसे लोगों के चुंगल में फंसा दिया जिनका मकसद कुछ और ही था. जब जाधव की दोस्ती आगे बढ़ने लगी उसी दौरान एक बलूच नागरिक का ऑफर उनके पास आया जिसके लालच में जाधव फंस गए. जिस ऑफर को जाधव बहुमूल्य समझ रहे थे वो उनको फंसाने की साजिश थी.

source

इसके बाद जाधव ईरान से एक सहयोगी के साथ पाकिस्तान सीमा से जुड़े सरावन के लिए निकल गए, आगे चलकर उनकी कार में एक बलूच अलगाववादी भी बैठ गया और ये आदमी ही जाधव को पाकिस्तान की सीमा में लेकर गया. इसके बाद कुलभूषण जाधव पाकिस्तान की पकड़ में आ गए.
अगर मेहराब सरजाव के दावे सच्चे हैं तो पाकिस्तान जल्द ही बड़ी मुसीबत में पड़ सकता है. सारी दुनिया में उसकी फ़जीहत होना तय है. वैसे ये बात तो तय है कि पाकिस्तान झूठ बोल रहा है लेकिन उसका झूठ कितना बड़ा है वो वक़्त ही बताएगा.

 

Facebook Comments