आज आजादी के 71 वें साल के जश्न में पीएम मोदी ने दे दिया है कश्मीर की जनता को यह ख़ास तौहफा जिसके बाद अब कश्मीरी भी कहेंगे कि…

आज के दिन हमारा देश आजाद हुआ और हमने जश्न भी मनाया. वक्त के साथ-साथ तमाम उतार चढ़ाव भी देखने को मिले फिर भी कड़ी मेहनत के साथ आज हमने आजादी के सत्तर साल भी पूरे कर लिए. यह आजादी सिर्फ जश्न के लिए नहीं है, संघर्षों से मिली इस आजादी को हम सिर्फ जश्न मना कर ही नहीं भूल सकते. इस आजादी को अगर कायम रखना है तो हमें अपने देश के हित के लिए हर मोड़ पर सक्रीय रहना पड़ेगा और अपने देश का नाम रौशन करना पड़ेगा ताकि इस आजादी को हासिल करने के लिए हमारे शहीदों ने और क्रांतिकारियों ने जो बलिदान दिए हैं वो बेकार न जाएं. जिस तरह से देश के शीश को हमेशा ऊचा रखने के लिए इन देशभक्तों ने हंसते हुए अपने सर भी कटवा दिए उसी तरह हमें भी अपने स्वार्थों को देशहित के बाद रखना चाहिए. इसी तरह की सोच से हमारा देश आने वाले वक्त में दुनिया में एक अलग पहचान बना सकता है.

source

आज आजादी के सत्तर साल पूरे हुए है और इस ख़ास मौके पर हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नें देश की राजधानी दिल्ली के लाल किले से देश की जनता को संबोधित करते हुए सभी देश वासियों को इस मुख्य दिन की शुभकामनाएं भी दी. प्रधानमंत्री मोदी ने इस ख़ास मौके पर देश के सभी शहीदों को भी याद किया और उनके बलिदान को भी सराहा.

source

इस ख़ास मौके पर पीएम मोदी ने कश्मीर जैसे बड़े मुद्दे पर एक बहुत बड़ी बात कह डाली, जिसकी काफ़ी लोग सराहना भी कर रहे हैं कि वाह हमारे प्रधानमंत्री ऐसी भी सोच रखते हैं. जी हाँ प्रधानमंत्री मोदी ने कश्मीर पर बड़ा संदेश देते हुए कहा कि कश्मीर की समस्या का समाधान गाली या गोली से नहीं, बल्कि कश्मीरियों को गले लगाने से होगा. 

source

प्रधानमंत्री मोदी द्वारा कही गई इस बात का मतलब यह नहीं था कि अब से कश्मीर के आतंकवादियों को भी गले से लगाया जाएगा. अपने इस मुख्य संदेश के दौरान पीएम मोदी ने कश्मीर में बैठे आतंकवाद के ठेकेदारों को साफ़ साफ हिदायत देते हुए कहा कि आतंकवाद के खिलाफ कोई नरमी नहीं बरती जाएगी. इतना ही नहीं प्रधानमंत्री मोदी ने अलगाववादियों पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ मुट्ठीभर अलगाववादी कश्मीर का माहौल खराब कर रहे हैं उन्हें उनकी औकात दिखाना ज़रूरी है.

source

कश्मीर के मुद्दे पर बात करने के साथ साथ पीएम ने उन लोगों को भी संबोधित किया जो लोग ये कहते हैं कि पीएम मोदी धर्म के आधार पर राजनीति करते हैं. ऐसे ही लोगों के मुह पर तमाचा मारते हुए पीएम ने ये साबित कर दिया कि वो न धर्म देखते हैं न किसी की जाती बल्कि उनके लिए केवल ये मायिने रखता कि किसको उनकी मदद की ज़रूरत है वे हमेशा उन लोगों के लिए हमेशा खड़े रहते आये हैं.

source

जी हाँ ठीक इसी तरह पीएम मोदी ने तीन तलाक जैसे मुद्दे को उठाते हुए कहा कि जो भी महिलाएं इस मुद्दे के खिलाफ आंदोलन चला रही हैं उन महिलाओं को पूरे देश का साथ मिलेगा. पीएम मोदी ने कहा कि पहले आजादी के समय नारा लगाया गया था कि भारत छोड़ो लेकिन अब समय आ गया है कि अब भारत जोड़ो आन्दोलन तो करना ही होगा ताकि ताकि 2022 में एक नया भारत निकल कर सामने आये. 

source

कश्मीर में हो रही हिंसा को देखते हुए पीएम मोदी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर का विकास और उन्नति, देशवासियों का संकल्प है इसलिए उनकी सरकार कश्मीर की खोई हुई गरिमा को वापस लानें के लिए पूरी कोशिश में हैं ताकि फिर से कश्मीर जिसे धरती का स्वर्ग कहा जाता है वहां के लोग खुली साँसे ले सकें.

source

पीएम ने कहा कि ‘मेरे दिमाग में यह बात बिल्कुल साफ है कि ‘न गाली से, न गोली से, हर कश्मीर को गले लगाने से समस्या सुलझने वाली है. साथ ही उन्होंने कहा कि ‘मैं कश्मीर के युवाओं से कहना चाहता हूं और मैंने यह बात कई बार कही भी है कि मुख्यधारा में आइये, आपको लोकतंत्र में बोलने का अधिकार है. मुझे खुशी है कि सुरक्षा बलों के प्रयासों से बड़ी संख्या में नौजवान मुख्यधारा में लौटे हैं.

देखें वीडियो