इस बार नहीं किया पीएम मोदी ने किसी नई योजना का एलान, वजह जानेंगे तो आप भी पीएम मोदी की इस सोच से चौक जाएंगे !

भारत 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस आजादी का जश्न मनाया . हर बार की तरह इस बार भी देश के प्रधानमंत्री ने लाल किले पार झंडा फहराया और देश को संबोधित भी किया. दरअसल प्रधानमंत्री के इस भाषण का देश को इन्तजार रहता है. प्रधानमंत्री ने भी अपने इस भाषण के लिए अच्छे से तैयारी भी करते है. आप इस बात से अंदाजा लगा सकते है कि मोदी मन की बात में भी इस बात का जिक्र कर चुके थे. उन्होंने अपने भाषण को छोटा रखने की बात कही थी. मोदी ने लालकिले से चीन और पाकिस्तान को साफ़ साफ़ चेतावनी भी दे दी.

Source

नहीं किया किसी और योजना का एलान !

इस भाषण में सबसे ख़ास बात ये रही कि पीएम मोदी ने इस बार किसी नई योजना का एलान नहीं किया जबकि हर साल पीएम मोदी कई योजनाओं का एलान करते थे. आपको बता दें पीएम मोदी ही नहीं बल्कि पहले के सभी प्रधानमंत्री इस मौके पर योजनाओं का एलान करते आये हैं.

 

Source

 

अभी तक करते आए हैं योजनाओं का एलान !

आपको बता दें पीएम मोदी ने इसी जगह से पिछली बार 2 योजनाओं का एलान किया था. उन्होंने उस समय स्वतंत्रता सेनानियों के लिए पेंशन में 20 प्रतिशत की वृद्धि का ऐलान के साथ दूसरी घोषणा यह की थी कि बीपीएल परिवारों के लिए सरकार एक लाख रुपये तक के चिकित्सा खर्च को वहन करेगी, लेकिन इस बार वह किसी भी तरह की नई योजनाओं का ऐलान करने से बचे बता दें पीएम मोदी ने रेडियो पर भी यही कहा था कि इस बार वो अपना भाषण छोटा रखेंगे.

source

 

इस वजह से नहीं किया नई योजनाओं का एलान !

लोगों का कहना है कि पीएम मोदी चाहते हैं कि पहले जो योजनाएं उन्होंने शुरू की हैं वो पूरी हो जाएँ उसके बाद वो दूसरी किसी योजना के बारे में सोचेंगे. उन्होंने इस बार के अपने भाषण में चीन और कश्मीर के मुद्दे पर बात की है.

 

पहले किया था कई योजनाओं का एलान !

इससे पहले पीएम मोदी ने अपने दो शुरुआती भाषणों में प्रधानमंत्री जनधन योजना, स्वच्छ भारत, हर स्कूल में शौचालय, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया, गिव इट अप स्कीम, 18 हजार गांवों को बिजली, वन रैंक,वन पेंशन जैसी बड़ी घोषणाएं की थीं. इन सभी योजनाओं की भव्य लॉन्चिंग भी हुई थी. अब यह योजनाएं शुरू हो गयी हैं लेकिन पूरी तरह से लागू नहीं हो पायी हैं.

source

 

चीन और पाकिस्तान को चेताया 

प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी चीन और पाकिस्तान को जवाब देते हुए कहा कि भारत की ताकत को सर्जिकल स्ट्राइक के जरिए दुनिया ने देख ली. हमारी सेनाएं अपना कर्तब दिखाने में पीछे नही हटते.आतंकवाद और घुसपैठ के मौके पर सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया है आतंरिक सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है समन्दर हो या सीमा हो, साइबर हो या स्पेस हो हमें हर प्रकार की सुरक्षा करनी है .भारत इसे करने में सक्षम है, देश के खिलाफ कुछ भी होने के हौसले परस्त करने में हम सक्षम हैं. इस तरह के भाषण से तो चीन और पाकिस्तान समझ ही गये होंगे कि भारत पीछे हटने वाला नही है. इस सन्देश को डोकलाम के मुद्दे पर चीन को भी समझ आया होगा.

Source

कश्मीर की समस्या गले लगाकर सुधारेंगे

इसी के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कश्मीर के लोगो और वहां की समस्या पर टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि समस्या ना गोली से, ना गाली से, कश्मीर की समस्या सुलझेगी गले लगाने से. हालांकि, आतंकवाद के खिलाफ सॉफ्ट होने का कोई सवाल नहीं है. इस बात को कश्मीर में आतंकवाद फैलाने वालों के लिए एक सन्देश के तौर पर देखा जा रहा है.

Source

गोरखपुर हादसे पर जताया दुःख 

गोरखपुर में हुए बच्चो की मौत के मामलें में नरेन्द्र मोदी ने अपनी बात रखी और उसपर दुःख जताते हुए कहा कि पिछले दिनों अस्पताल में मासूम बच्चों की मौत हुई. मैं देशवासियों को विश्वास दिलाता हूं कि ऐसे संकट के समय पूर्ण संवेदनाओं के साथ हम जनसुरक्षा के साथ कुछ भी करने में कमी नहीं रहने देंगे. दरअसल गोरखपुर में लगभग 60  लोगों की मौत के बाद लोगों आक्रोश था कि प्रधानमंत्री ने इस घटना पर कुछ बोले नही.

Facebook Comments