महागठबंधन टूटने पर लालू की बेटी ने किया ऐसा ट्वीट जिससे राजनीति में मच गया है हाहाकार

राजनीति भी कई बार कुम्भ के मेले की तरह बन जाती है जिसमें नेता मिलते भी रहते हैं और बिछुड़ते भी रहते हैं. राजनीति के कुम्भ में ऐसे ही दो नेताओं का आज से 20 महीने पहले मिलन हुआ था जो कि आज बिछड़ गया है. आपको बता दें कि यह गठबंधन हुआ तो इसलिए था कि दोनों लोग मिलकर नरेन्द्र मोदी से एक दूसरे की रक्षा कर सकें,  लेकिन इन दोनों का भरत मिलाप अपनी ही रक्षा नहीं कर पाया. जब ये दोनों मिले थे तब इनके सुर एक जैसे थे. उस वक्त ये दोनों नेता मिले सुर मेरा तुम्हारा वाले तर्ज़ पीएम मोदी को कोस रहे थे और पीएम मोदी के खिलाफ लड़ने के लिए नए फार्मूला ढूंढ रहे थे. लेकिन आज समय बदल चुका इसलिए कहते है कि राजनीति में न तो कोई किसी का पक्का दोस्त होता है न कोई पक्का दुश्मन होता है.

SOURCE

वहीँ काफी दिनों से पार्टी में चल रही गतिविधियों के बाद अटकले लगायी जा रही थी कि हो सकता है मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अब पार्टी पद से इस्तीफ़ा दे दें. ऐसे में आख़िरकार बुधवार  26 जुलाई को सभी अटकलों को सही साबित करते हुए नीतिश कुमार ने बिहार के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. सिर्फ यही नहीं इधर नीतिश कुमार ने इस्तीफ़ा दिया और उधर राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी ने उनका इस्तीफा मंजूर भी कर लिया, मानों ऐसा लगता है कि जैसे यह सब पहले से सोची समझी साजिश हो कि आपने इस्तीफा दिया नहीं उधर इस्तीफा मंज़ूर. इस्तीफा देने के बाद जब नीतीश कुमार से मीडिया ने इस्तीफे का कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि, ” मुझसे जितना संभव हो सका उतने दिन मैंने सरकार चलाई, लेकिन अब जो हालात हैं ऐसे में मेरे लिए काम कर पाना संभव नहीं रह गया है और इसलिए मैंने इस्तीफा देने का फैसला किया है.

SOURCE

बता दें कि नीतीश कुमार द्वारा दिए गए इस्तीफे के तुरंत बाद प्रधानमंत्री मोदी ने भी फ़ौरन ट्वीट किया था कि, “भ्रष्टाचार के ख़िलाफ लड़ाई में जुड़ने के लिए नीतीश कुमार जी को बहुत-बहुत बधाई. सवा सौ करोड़ नागरिक ईमानदारी का स्वागत और समर्थन कर रहे हैं.” ऐसे में अब तो यह बात तो सही साबित हो ही गई है कि राजनीति में कोई किसी का नहीं होता कब कौन किसका दोस्त बन जाए और कब दुश्मन. जी हाँ इस्तीफा देते ही नीतिश कुमार ने बीजेपी का दामन पकड़ लिया है और आज ही बीजेपी की 58 सीटों का समर्थन पाकर नीतिश कुमार ने आज फिर से मुख्यमंत्री पद का शपथ ले लिया है मतलब कि नीतिश कुमार अब 6 वीं बार मुख्यमंत्री बन गए हैं. 

SOURCE

ऐसे में आए सियासी भूचाल को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इस्तीफे के बाद RJD के सुप्रीमो लालू यादव की बेटियों की तीखी प्रतिक्रिया आयी है,जी हाँ लालू की बेटियों ने ट्वीटर के जरिए भाजपा पर अपनी खिसियाहट निकाली है। लालू की बेटी राजलक्ष्मी और चंदा यादव ने ट्वीट कर के नीतीश के इस फैसले की कड़ी निंदा करते हुए लिखा है कि.

SOURCE

चंदा यादव ने अपने ट्वीट में लिखा है कि यह जातीय भेदभाव का मामला है न कि भ्रष्टाचार का मामला है. चंदा ने आगे लिखा है कि यह अगड़ी जाति बनाम यादव है, नहीं तो भाजपा के भ्रष्ट नेताओं के ऊपर मामले क्यों नहीं उठाए जाते हैं.

SOURCE

ट्वीट में लिखी गई कड़वाहट को देखकर साफ झलक रहा है कि जिस तरह से CBI ने लालू के परिवार पर अपना शिकंजा कसा है उसके बाद महागठबंधन के खत्म होने से दोनों बेटियां बेहद बौखलाई हुई हैं. साथ ही ट्वीट पढ़कर लग रहा है कि नीतीश कुमार के इस्तीफे की इस वजह को लालू यादव की बेटियां भाजपा की सोची साजिश मानती हैं. बिना इसके कि अपने परिवार द्वारा किए जा रहे भ्रष्टाचार और घोटालों को इसकी अहम वजह समझने की कोशिश कर रही हैं.

SOURCE

हम यहाँ आपको जानकारी के लिए बता दें कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को जदयू विधायक दल की बैठक बुलाई थीं, जिसमें ये तय हुआ था कि लालू के बेटे तेजस्वी को लेकर फैसला किया जायेगा. हालाँकि ऐसा कुछ तो नहीं हुआ बल्कि नीतिश कुमार का इस्तीफ़ा ज़रूर आगया. बुधवार को RJD प्रमुख लालू प्रसाद यादव और उनके विधायकों के बीच हुई बैठक में ये बात साफ़ कर दी गयी थी कि उन्होंने तेजस्वी यादव का इस्तीफा नहीं मांगा है.

SOURCE

वहीँ RJD के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने अपने बेटे तेजस्वी और पत्नी राबड़ी देवी के साथ तेजस्वी के इस्तीफ़े के मुद्दे पर बात करते हुए मीडिया से साफ़ कह दिया था कि उन्हें तेजस्वी का इस्तीफा किसी भी हाल में मंजूर नहीं है. हालाँकि इस बात पर भी लालू यादव ने अपने सुपुत्र को बचाते हुए सारा दोष मीडिया पर ही ठहरा दिया था. ऐसे में लालू ने आगे कहा था कि, “जब नीतीश कुमार ने उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से इस्तीफा ही नहीं मांगा है तो वो आखिर क्यों ही अपना पद छोड़ें? तो अंत में तेजस्वी यादव ने इस्तीफा तो नहीं दिया लेकिन नीतीश कुमार ने ज़रूर बीजेपी का समर्थन पाकर  इस्तीफा दे डाला और फिर से मुख्यमंत्री बन गए.

Facebook Comments