असुरक्षित मुसलमानों वाले बयान पर बीजेपी नेता मीनाक्षी लेखी ने हामिद अंसारी को कह दिया है कुछ ऐसा जिसके बाद अब अंसारी कहीं मुंह दिखाने लायक नहीं रहेंगे.

हामिद अंसारी, अब तक देश के उप-राष्ट्रपति पद की गरिमा बढ़ाने वाले एक ऐसा शख्स जिसने पद से हटते ही एक ऐसा बयान दे डाला जिसने ना सिर्फ केवल राजनीति जगत में बल्कि देश भर में लोगों को झकझोर दिया है. दरअसल उपराष्ट्रपति के तौर पर हामिद अंसारी का कार्यकाल अब गुरुवार यानी 11 अगस्त को समाप्त हो जायेगा, जिसके बाद देश के अगले उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू होंगे.

source

अपने कार्यकाल के आखिरी दिन हामिद अंसारी ने अपनी विदाई समारोह के दौरान कहा कि, “देश के मुसलमानों में बेचैनी और असुरक्षा का माहौल है.” वाकई इस बयान ने हर इंसान को कई तर्ज पर सोचने को मजबूर कर दिया है.

source

अंसारी के द्वारा दिए गए इस बयान के बाद भाजपा और शिवसेना के नेताओं में नाराजगी देखी जा रही है. उनको अंसारी का बयान नागवार गुजरा है. भाजपा नेताओं ने तो इस बयान को लेकर कहा कि ये उपराष्ट्रपति के पद की गरिमा के खिलाफ है वहीँ शिवसेना ने हामिद अंसारी के इस बयान पर और भी तीखी टिप्पणी दी है.

source

बीजेपी ने हामिद अंसारी के इस बेहुदे बयान को लेकर कहा है कि हामिद अंसारी इस तरह के संवेदनशील शील मुद्दे पर बयान देकर राजनीति करने की कोशिश कर रहे हैं. हामिद अंसारी ने कहा था कि देश के अल्पसंख्यक खासकर मुस्लिमों के अन्दर बेचैनी का अहसास और असुरक्षा की भावना रहती है.

source

हामिद अंसारी द्वारा दिए गए इस तरह के बयान के बाद बीजेपी अंसारी से बेहद नाराज़ है. बीजेपी ने हामिद अंसारी को जवाब देते हुए कहा है कि अंसारी साहब आपको मालूम हो कि मुसलमानों के लिए भारत से बेहतर कोई देश नहीं है और इसलिए आपको इन सभी तथ्यों की जांच कर लेनी चाहिए और देखें कि किस सरकार में मुसलमान सबसे ज्यादा सुरक्षित हैं और महसूस भी करते हैं.

source

वहीँ बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने हामिद अंसारी को जो खरी खोटी सुनायी है शायद ही अब इसके बाद अंसारी इस तरह की धार्मिक राजनीति दुबारा करें. मीनाक्षी लेखी ने कहा, ‘जिस वक्त उन्होंने यह बयान दिया है, यह उनकी मंशा को जाहिर करता है. इतना ही नहीं आगे बढ़ते हुए लेखी ने कहा कि हामिद अंसारी जब उपराष्ट्रपति के पद पर थे, तब उन्होंने इस मुद्दे पर कभी कुछ नहीं कहा, और आज जब वह पद छोड़ रहे हैं तो वह दोबारा राजनीति में हाथ आजमाना चाह रहे हैं.

source

तीन तलाक के मुद्दे पर पर उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने कहा था कि यह एक सामाजिक बिचलन है कोई धार्मिक जरुरत नही है धार्मिक जरुरत स्पष्ट है. लेकिन सामाजिक रीत रिवाज़ इसमें घुसकर हालत कुछ ऐसी बना चुके है जो अत्यंत अवांछित है. कोर्ट को इस मामले में दखल नही देना चाहिए क्योंकि सुधार समुदाय के भीतर से ही होंगे”

source

कश्मीर के मुद्दे पर हामिद अंसारी ने कहा था कि कश्मीर की समस्या एक राजनीतिक समस्या है इसका समाधान राजनीतिक तरीके से ही निकाला जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि मुसलमानों के अन्दर एक तरह की शंका है जिस तरह के बयान उन लोगो के खिलाफ दिए जा रहे है. मैंने देश के कई हिस्सों से यह बात सुनी पर यह बात उत्तर भारत के अधिकतर हिस्सों में सुनने को मिलती है.अब सोचने वाली बात यह है कि क्या देश का मुसलमान सच में असुरक्षित है? क्या देश के मुसलमान सच में डरा हुआ है? क्या देश के उपराष्ट्रपति के पद पर रहकर भी उन्हें किसी तरह की शंका है?

source

हामिद अंसारी के इस बयान पर भारतीय जनता पार्टी के मुस्लिम प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि मुसलमानों के लिए सारी दुनिया में हिन्दुस्तान से अच्छा कोई भी मुल्क नहीं है और मुसलमानों का हिंदुओं से बेहतर कोई दोस्त नहीं है. हुसैन के इस बयान से साफ़ हो जाता है कि एक मुस्लिम होते हुए उनको भारत में मुस्लिमों के लिए कोई असुरक्षा की भावना नहीं दिखती.

Facebook Comments