सो रहे थे कावड़िये, आँख खुली तो सामने फन फैला कर बैठे थे नागराज, इसके बाद जो हुआ उसे जानकर आपकी भी शिव भगवान के लिए भक्ति बढ़ जाएगी.

इनदिनों देश में शिव के भक्तों की एक ऐसी भक्ति का नज़ारा देखने को मिलता है जहाँ आपका भी दिल कावड़ियों को देखकर  शिव भक्ति में रम जाने को करेगा. बाबा भोले को गंगाजल चढ़ाने के लिए निकले महादेव के दीवानों साल के इस समय अपने ही जोश में नज़र आते हैं. देश के कोने-कोने से हरिद्वार के लिए निकली कावड़ियों की आस्था तो देखने लायक ही होती है लेकिन हाल ही में एक ऐसा नज़ारा देखने को मिला जहाँ कावड़ियों के इस उत्साह के बीच एक विशालकाय सांप कावड़ियों के एक जत्थे में घुस जाता है. दरअसल होता ये है कि हर‌िद्वार में कांवड़ लेकर आए श‌िवभक्त दिन के थके हारे होने के बाद रात को आराम कर रहे थे कि तभी वहां एक सांप आकर बैठ गया.

source

सांप आने के बाद क्या हुआ

मामला  बाबा परमजीत के आश्रम के मकान के अन्दर का है जब वहां सोमवार की शाम को कावड़ियों की एक फ़ौज में एक जहरीला सांप घुस गया. उस वक़्त आश्रम के अंदर पुनहाना गांव से कुछ कांवड़िया हरिद्वार कांवड़ लेने आए थे, दिन भर कावड़ लेकर आये थे तो स्वाभाविक ही था कि शाम को जिसको जहाँ जगह मिली वो वहां आराम करने लेट गए लेकिन तभी वहां कुछ ऐसा हुआ कि वहां मौजूद कावड़ियों के होश उड़ गए. दरअसल जिस जगह पर थके-हारे कावड़िये आराम फरमा रहे थे वहां एक ज़हरीला सांप आ गया था.

source

मौके पर पहुंचे वन अधिकारी लेकिन…

आश्रम के अंदर सांप की खबर से कावड़ियों के बीच हलचल मच गयी. मामला बढ़ता देख आश्रम में सांप होने की ख़बर बाबा परमजीत के द्वारा श्यामपुर रेंज केवन क्षेत्र अधिकारी यशपाल सिंह राठौर को दी गई. खबर मिलते ही वन क्षेत्र अधिकारी नेवनआरक्षी अशोक कुमार, रमेश चंद सैनी, रुकंप सिंह चौहान ,रामतेज तिवारी,राजेश कुमार को सांप को पकड़ने के लिए मौके पर भी पहुँच गए.

source

सांप ने आसपास खतरा भाप कर किया कुछ ऐसा

वन अधिकारी मौके पर पहुंचे तो सबसे पहले कावड़ियों को आश्वासित किया कि वो सब ठीक कर देंगे और इसी विश्वास के साथ उस सांप को पकड़ने में लग गए. लेकिन ये क्या  मौके पर पहुंचकर सांप को पकड़ने की जैसे ही वन अधिकारीयों ने कोशिश की तो सांप ने भी खतरा भाप कर वन कर्मचारी को डंसने के लिए अपना फन उठा दिया. सांप उतना ही विशालकाय था जितना की ज़हरीला. ऐसे में सांप का गुस्सा देखकर अब वन कर्मचारियों के भी पसीने छूटने लगे थे.

source

आखिरकार पकड़ा गया सांप 

अब सांप को पकड़ना वन अधिकारीयों के लिए भी मशक्कत बनती जा रही थी. ऐसे में अब वन अधिकारियों ने सांप को पकड़ने के लिए मशीन का इस्तेमाल करने का फैसला किया लेकिन अब सांप ने  कमरे के अंदर रखे तकत के पावे में अपनी  पूंछ को लपेट लिया. आखिरकार  दो घंटे की मशक्कत करने के बाद किसी तरह वन अधिकारियों ने सांप को पकड़ कर उसे जंगल में छोड़ा.

source

महज़ एक ज़हरीला सांप नहीं बल्कि शिव भगवान का रूप था वो नाग 

इस मामले में सबसे अच्छी बात ये रही कि ना ही सांप को कुछ हुआ और ना ही शिव भक्तों को उस ज़हरीले सांप ने कुछ नुकसान पहुँचाया. वहां मौजूद श‌िवभक्‍तों का भी ये ही मानना था क‌ि सांप के रूप में भगवान भोलेनाथ ने वहां आकर अपने भक्तों को दर्शन दिया है और शायद  इसल‌िए सांप ने किसी भी भोले के भक्त को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया है और चुपचाप दर्शन देकर वहां से चले गए.

Facebook Comments