जानिये आखिर क्या है वो बड़ी वजह जिसके चलते 10 महिला खिलाड़ियों को तो मिल गयी रेलवे की नौकरी में प्रमोशन लेकिन एक खिलाड़ी को…

रविवार को भारत और इंगलैंड के बीच वर्ल्ड कप का मैच था. महिला क्रिकेट टीम ने फाइनल में पहुँचने के लिए क्या जद्दोजहद नहीं की थी. फाइनल में भी उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया. हालाँकि टीम इंडिया कड़ी मेहनत के बावजूद ट्राफी तो अपने नाम नहीं कर पायी लेकिन दिल तो उन्होंने यकीनन हर भारतीय का जीत ही लिया है. मैच की हार-जीत के बाद मौका आया टीम इंडिया की इन जाबांज खिलाड़ियों को तोहफे, सम्मान, और हौसलाअफजाई के लिए गिफ्ट देने का. जिसमे आगे बढ़ते हुए रेल मंत्री ने भी इन खिलाड़ियों को सम्मानित करने के लिए एक नायाब कदम उठाया.

source

क्या कदम उठाया सुरेश प्रभु ने?

बात है भारत का नाम रोशन करने वाली भारत की बेटियों की तो उनकी जीत की ख़ुशी में चार चाँद लगाते हुए रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने भारतीय महिला खिलाड़ीयों के प्रोमोशन की घोषणा कर डाली. लेकिन अबतक मिली ख़बर के अनुसार सुरेश प्रभु ने भारतीय खिलाड़ियों में से दस को सम्मानित करते हुए उन्हें प्रोमोशन दिया है. अब सवाल ये खड़ा होता है कि जब खिलाड़ी ग्यारह होते हैं तो दस ही खिलाड़ियों को क्यों सम्मानित किया गया?

source

…तो ये थी वजह?

बता दें मौजूदा दौर में महिला भारतीय खिलाड़ियों में से दस खिलाड़ी भारतीय रेलवे में कार्यत हैं जिन्हें जीत के बाद 23 जुलाई, 2017, को सुरेश प्रभु ने सम्मानित करने का फैसला लिया है.  ये खबर न्यूज एजेंसी एएनआई के हवाले से है. वर्तमान भारतीय टीम की जो दस खिलाड़ी भारतीय रेलवे में नौकरी करती हैं उनमें..

source

..कप्तान मिताली राज, जिन्होंने इस टूर्नामेंट में दूसरा सबसे ज्यादा रन बनाने का कीर्तिमान अपने नाम किया है, वहीँ दूसरे नंबर पर उपकप्तान हरमनप्रीत कौर हैं जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 171 रनों की दमदार पारी खेल कर देश को अपना मुरीद बना लिया है. इसके साथ ही हम आपको बता दें कि रेल मंत्रालय ने भारतीय महिला टीम के प्रत्येक खिलाड़ी को नकद पुरस्कार देने की भी घोषणा की है.

source

शानदार था मैच

बता दें रविवार को मैच में पहले खेलते हुए इंग्लैंड ने 50 ओवरों में सात विकेट पर 228 रन बनाए थे जिसका पीछा करते हुए भारत ने जवाबी पारी में  48.4 ओवरों में 219 रन पर बनाई. हालाँकि भारतीय टीम जीत नहीं पाई और महज़ 219 रनों की पारी में ही सिमट गई.

source

एक बार आस तो जगी थी जब भारत 43वें ओवर में तीन विकेट के नुकसान पर 191 रन के साथ जीत की ओर बढ़ रहा था, लेकिन तभी पारी पलती और 219 रनों तक पहुँचते-पहुँचते ही टीम इंडिया ने जाने कैसे ही घुटने टेक दिए और अंततः भारत 9 रन से मैच और वर्ल्ड हार गया.

source

बता दें कि भारत की तरफ से तूफानी पारी खेलते हुए पूनम राउत ने सबसे ज्यादा, 86 रनों की धुआंधार पारी खेली जिसमे उन्होंने 4 चौके और 1 छक्का जड़ कर उन्होंने इंगलैंड की खिलाड़ियों को पस्त कर दिया था. इनके बाद हरमनप्रीत कौर ने 51 रन और वेदा कृष्णमूर्ति ने 35 रनों की दमदार पारी खेलकर भारत को जीत की एक आस दी.

source

वहीँ बात करें अगर इंग्लैंड की तो इंग्लैंड की तरफ से नैटली स्कीवर ने 51 रन बनाकर अर्धशतक तो जमाया ही साथ ही भारत को एक कड़ा मुकाबला दिया, वहीं मैच की दूसरी स्टार खिलाड़ी सारा टेलर ने 45 रनों की पारी खेली. इंग्लैंड की दमदार पारी के बाद के बाद भारतीय गेंदबाजों ने मैच पर पकड़ बनाते हुए इंग्लैंड के दो और विकेट जल्दी-जल्दी गिरा दिए

 

Facebook Comments