राष्ट्रपति का काफ़िला सड़क से गुज़र रहा था कि तभी ट्रैफिक हवलदार ने कुछ ऐसा देखा कि काफ़िला रोककर…

देश में राष्ट्रपति और उनसे जुड़ी हर चीज़ ख़ास होती है| ऐसे में भला किसी की मजाल की कोई राष्ट्रपति के रास्ते में आये या उनके किसी काम को रोके? लेकिन हमारी इन सब बातों से विपरीत हाल ही में एक ऐसा किस्सा देखने को मिला जहाँ एक ट्रैफिक हवलदार ने राष्ट्रपति के काफ़िले के बीच कुछ ऐसा कर दिया जिसे जानकर आपको भी नहीं होगा यकीन|

source

दरअसल एक तरफ जहां पुलिस डिपार्टमेंट अपनी कार्यशैली और तमाम नाकामियों के लिए बदनाम है, वहीं बेंगलुरु के एक ट्रैफिक पुलिस आॅफिसर ने मानवता और साहस की एक ऐसी मिसाल पेश की है कि देश भर पर उसके जज्बे को सलाम किया जा रहा है। हम यहाँ जिस ट्रैफिक हवलदार की बात कर रहे हैं वो आॅफिसर बेंगलूरु के त्रिनिटी मंडल में तैनात है और वाकया उस वक्त का है जब राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का काफिला राज भवन की तरफ बढ़ रहा था। ठीक उसी समय इस ट्रैफिक हवलदार की नज़र एक ऐसी चीज़ पर पड़ी….

 

बता दें कि कर्नाटक के जिस ट्रैफिक पुलिस अफसर की सोशल मीडिया पर वाहवाही हो रही है उन्होंने काम भी कुछ ऐसा किया है जिससे न सिर्फ सोशल मीडिया बल्कि अफसर को वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा इनाम देने की घोषणा भी की गई है और इसकी वजह जानकर आप भी गर्व महसूस करेंगे।

बताते चलें कि एम. एल. निजलिंगप्पा ट्रैफिक पुलिस में सब-इंस्पेक्टर के पद पर नियुक्त हैं। उनकी तारीफ, उनकी ड्यूटी निभाने को लेकर की जा रही है। जिस वक़्त राष्ट्रपति का काफ़िला निकल रहा था निजलिंगप्पा ने ठीक उसी वक़्त एक एम्बुलेंस को वहां फंसा देखा| उन्हें पता था काफ़िला किसी का भी क्यूँ ना हो एम्बुलेंस को रास्ता देना सबसे ज़रूरी है| बस फिर क्या था उन्होंने रास्ता देने के लिए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के काफिले को ही रोक दिया।

बीते शनिवार (17 जून) को निजलिंगप्पा की तैनाती बेंगलुरु के ट्रिनिटी सर्किल पर थी। इस दौरान एक एम्बुलेंस को उन्होंने बड़ी ही मुस्दैती से निकलवाया और इस काम के लिए वह राष्ट्रपति के काफिले को रोकने में भी नहीं हिचकिचाए। बता दें राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी राज्य की नई मेट्रो ग्रीन लाइन के उद्घाटन के लिए बेंगलुरु में मौजूद थे। इस पुलिस आॅफिसर एमएल निजलिंगप्पा ने एक एंबुलेंस को निकालने के लिए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का काफिला रोक दिया। ट्रैफिक पुलिस के इस साहसिक कदम ने लोगों के दिलों में जगह बना ली।

देखिये वीडियो: 

निजलिंगप्पा ने राष्ट्रपति के काफिले के बजाए एम्बुलेंस को तरजीह दी। वहीं उनके इस काम के लिए उन्हें इनाम देने की घोषणा भी की गई है। बेंगलुरु सिटी पुलिस कमिश्नर प्रवीण सूद ने खुद ट्वीट कर निजलिंगप्पा की तारीफ की है। सोशल मीडिया पर वायरल इस वीडियो में आप साफ देख सकते हैं कैसे राष्ट्रपति के काफिले के लिए खाली किए जा चुके रास्ते पर एम्बुलेंस चलते-चलते रुक जाती है। तभी निजलिंगप्पा एम्बुलेंस को निकलने का इशारा करते हैं और फिर एम्बुलेंस दाईं से आते हुए राष्ट्रपति के काफिले से पहले निकल जाती है।

Facebook Comments