जब मुस्लिम एंकर ने वन्दे मातरम् पर कहे विवादित बोल तो संबित पात्रा ने दिया ऐसा करारा जवाब

वर्ष 1950 में भारत में भारत के संविधान द्वारा वन्दे मातरम् को राष्ट्रीय गीत और जन-गण-मन को राष्ट्रीय गान घोषित किया गया लेकिन हमारे देश में ही कई ऐसे लोग हैं जो इन का सम्मान नहीं करते और ये देखकर हर सच्चे हिन्दुस्तानी को बुरा लगता है.

आज जो वीडियो हम आपको दिखाने जा रहे हैं उसे देखकर आपको यकीन हो जाएगा कि कैसे कुछ लोग देश के राष्ट्रगीत पर भी राजनीति करते हैं. ये बात समझ में नहीं आती कि इन लोगों को राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत से आखिर परेशानी क्या है? इनको एक टीवी शो में संबित पात्रा ने करारा जवाब दिया.

स्वाधीनता संग्राम में वन्दे मातरम् गीत की बड़ी भागीदारी के बावजूद जब राष्ट्रगान के चयन की बात आयी तो वन्दे मातरम् के स्थान पर रवीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा लिखे व गाये गये गीत ‘जन गण मन’ को वरीयता मिली.

इसकी वजह यही थी कि कुछ मुसलमानों को ‘वन्दे मातरम्’ गाने पर आपत्ति थी, क्योंकि इस गीत में देवी दुर्गा को राष्ट्र के रूप में देखा गया है. अब आजादी के इतने वर्षो के बाद भी विवाद जस का तस है. आज जो वीडियो हम आपको दिखाने जा रहे हैं उसे देखकर आपको पता चल जाएगा कि मुस्लिम समाज वन्दे मातरम् को लेकर कितना गलत है.

देखें वीडियो

अब इस वीडियो को देखने के बाद आपको पता चल ही गया होगा कि कैसे देश के राष्ट्रगीत को लेकर राजनीति की जा रही है.

अब आप पूरा वीडियो देखें और आपको पता चल जाएगा कि कैसे कुछ लोग देश का सम्मान बढाने वाले राष्ट्रगीत पर राजनीति कर रहे हैं.

देखें पूरा वीडियो

पूरा वीडियो देखने के बाद आपके सामने सारी हकीकत स्पष्ट हो गई होगी, लेकिन हमें समझना होगा कि जिस देश में हम रहते हैं उसके राष्ट्रीय प्रतीकों का हमें हमेशा सम्मान करना चाहिए.

Facebook Comments