बड़ा खुलासा: लालू करने वाले थे नीतीश के साथ ये काम जिसके डर से नीतीश कुमार ने दे दिया इस्तीफ़ा!

राजनीति भी कई बार कुम्भ के मेले की तरह बन जाती है जिसमें नेता मिलते भी रहते हैं और बिछुड़ते भी रहते हैं. राजनीति के कुम्भ में ऐसे ही दो नेताओं का आज से 20 महीने पहले मिलन हुआ था जो मिलन अब टूट चुका  है. आपको बता दें कि यह गठबंधन हुआ तो इसलिए था कि दोनों लोग मिलकर नरेन्द्र मोदी से एक दूसरे की रक्षा कर सकें,  लेकिन इन दोनों का भरत मिलाप अपनी ही रक्षा नहीं कर पाया. जब ये दोनों मिले थे तब इनके सुर एक जैसे थे. उस वक्त ये दोनों नेता मिले सुर मेरा तुम्हारा वाले तर्ज़ पीएम मोदी को कोस रहे थे और पीएम मोदी के खिलाफ लड़ने के लिए नए फार्मूला ढूंढ रहे थे. लेकिन आज समय बदल चुका है इसी लिए कहते है कि राजनीति में न तो कोई किसी का पक्का दोस्त होता है न कोई पक्का दुश्मन .

SOURCE

वहीँ काफी दिनों से पार्टी में चल रही गतिविधियों के बाद अटकले लगायी जा रही थी कि हो सकता है नीतीश कुमार मुख्यमंत्री  पद से इस्तीफ़ा दे  सकते है . ऐसे में आख़िरकार बुधवार  26 जुलाई को सभी अटकलों को सही साबित करते हुए नीतीश कुमार ने बिहार के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. सिर्फ यही नहीं इधर नीतीश कुमार ने इस्तीफ़ा दिया और उधर राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी ने उनका इस्तीफा मंजूर भी कर लिया, मानों ऐसा लगता है कि जैसे यह सब पहले से सोची समझी साजिश के तहत हो कि आपने इस्तीफा दिया नहीं उधर इस्तीफा मंज़ूर. इस्तीफा देने के बाद जब नीतीश कुमार से मीडिया ने इस्तीफे का कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि, ” मुझसे जितना संभव हो सका उतने दिन मैंने सरकार चलाई, लेकिन अब जो हालात हैं ऐसे में मेरे लिए काम कर पाना संभव नहीं रह गया है और इसलिए मैंने इस्तीफा देने का फैसला किया है.

SOURCE

26 जुलाई को हुई इस घटना ने बिहार की राजनीति में भूचाल सा ला दिया है. जी हाँ जहाँ बिहार में लालू के बेटे तेजस्वी का मामला काफी समय से सुर्खियाँ बटोर रहा था वहीँ कल नीतीश कुमार द्वारा दिए गए इस्तीफे ने एक नया मोड़ लाकर खड़ा कर दिया है. किसी को भी इस बात की भनक तक नहीं थी कि नीतीश कुमार इतनी जल्दी ऐसा सख्त कदम उठा लेंगे जोकि राजनीति में एक भूचाल से कम नहीं माना जाएगा.

SOURCE

वहीँ बिहार से एक और बड़ी बात निकलकर सामने आ रही है, जो कि लालू के परिवार के लिए घातक साबित हो चुकी है जिसे पढ़कर आप भी यही कहेंगे कि ऊपरी मन से लालू यादव का परिवार कितनी भी ख़ुशी ज़ाहिर क्यों न कर ले लेकिन नीतीश कुमार द्वारा उठाए गए इस कदम से वे लोग कहीं न कहीं आहत तो हैं ही. आपको बता दें कि हाँ यह बात सच भी है कि यह इस्तीफा बहुत बड़ी सोची समझी साजिश के तहत हुआ है जिसे नीतीश कुमार ने अंजाम दिया है वरना इस घटना को अंजाम देने की फिराक में तो कोई और ही था लेकिन तभी…

SOURCE

आपको बता दें कि JDU के कुछ नेताओं का कहना है कि चारा घोटाले और भी तमाम मामलों से परेशान होकर लालू प्रसाद यादव असल में खुद BJP से डील कर के नीतीश कुमार को सत्ता से बेदखल करने की योजना बना रहे थे, जिस बात की भनक नीतीश कुमार को लग गई थी और उन्होंने मौके का फायेदा उठाते ही लालू की बाजी पलट दी.

SOURCE

आज लालू प्रसाद यादव का परिवार नीतीश कुमार पर धोखा देने का आरोप लगा रहा है, लेकिन वहीँ सूत्रों के मुताबिक लालू यादव खुद बीजेपी से समझौता कर नीतीश कुमार के पैरों तले से जमीन खिसकाने वाले थे. लेकिन तभी यह खबर नीतीश कुमार तक पहुंच गई और उन्होंने अपने सूत्रों के जरिए पहले तो इस खबर को पुख्ता किया और जब मामला साफ़ हो गया तो उन्होंने आनन-फानन में बीजेपी के कुछ प्रमुख नेताओं से बात चीत करी और फ़ौरन इस्तीफा देकर बीजेपी के साथ हाथ मिलाकर नयी सरकार बनाने की योजना बनाई.

SOURCE

कहा जा रहा है कि लालू प्रसाद यादव ने जैसे ही अपने परिवार को खतरे में देखा तो उन्होंने अपने ख़ुफ़िया दूतों को केंद्र के दो बड़े मंत्रियों के पास भेजकर अपने परिवार पर आई कानूनी पचड़े को दूर करने की मदद मांगी थी  और उसके बदले रिश्वत के तौर पर ये कहा कि अगर बीजेपी उनका साथ दे तो वे बदले में नीतीश कुमार को सत्ता से बाहर कर देंगे.

SOURCE

वहीँ JDU के कुछ लोगों का कहना है कि वैसे भी नीतीश कुमार RJD के तमाम मंत्रियों के आचरणों से न खुश थे क्योंकि RJD के तमाम मंत्री लालू प्रसाद यादव के आदेश के मुताबिक ही काम करते थे और नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री होने के बावजूद उनके आदेशों को नजरअंदाज कर दिया जाता था .

SOURCE

बता दें कि नीतीश कुमार द्वारा दिए गए इस्तीफे के तुरंत बाद प्रधानमंत्री मोदी ने भी फ़ौरन ट्वीट किया था कि, “भ्रष्टाचार के ख़िलाफ लड़ाई में जुड़ने के लिए नीतीश कुमार जी को बहुत-बहुत बधाई. सवा सौ करोड़ नागरिक ईमानदारी का स्वागत और समर्थन कर रहे हैं.” ऐसे में अब तो यह बात तो सही साबित हो ही गई है कि राजनीति में कोई किसी का नहीं होता कब कौन किसका दोस्त बन जाए और कब दुश्मन. जी हाँ इस्तीफा देते ही नीतिश कुमार ने बीजेपी का दामन पकड़ लिया है और आज ही बीजेपी की 58 सीटों का समर्थन पाकर नीतिश कुमार ने आज फिर से मुख्यमंत्री पद का शपथ ले लिया है मतलब कि नीतिश कुमार अब 6 वीं बार मुख्यमंत्री बन गए हैं.

Facebook Comments