जिस काम को करने के लिए मायावती और अखिलेश डरते थे, उसे CM योगी ने एक साल में 4 बार कर दिखाया !

जब राजनेताओं की प्राथमिकता जनता की सेवा नहीं सत्ता का सुख हो तो वो कई तरह के अन्धविश्वासों को मानने लगते हैं. वो यही कोशिश करते हैं कि हर उस नियम का पालन हो, हर उस अंध विश्वास पर विश्वास किया जाय जिससे दोबारा सत्ता में बने रहे. इसका सटीक उदाहरण उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमों मायावती हैं. दरअसल ये दोनों पूर्व मुख्यमंत्री दिल्ली के करीब बसे नोएडा आने से महज इसलिए कतराते थे कि उनकी सरकार चली जाएगी. इस अन्धविश्वास को भाजपा के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने पिछले साल दिसम्बर में ही तोड़ दिया था.

जब से यूपी में योगी सरकार बनी है तब से अपराधियों में भय दिखने लगा है (फोटो सोर्स: रिपब्लिक)

नोएडा ना आने को लेकर अंधविश्वास..

बता दें कि नोएडा ना आने को लेकर अंधविश्वास है कि, यहाँ जो भी मुख्यमंत्री आया, दोबारा वो सत्ता की कुर्सी पर काबिज नहीं हो सका. इस बात पर विश्वास करके ना अखिलेश यादव नोएडा आये और ना ही मायावती. मायावती आखिरी बार 2012 में नोएडा आई थीं, तब से नोएडा आयी नहीं. नोएडा की जनता आस लगाये बैठी रही कि उन्होंने जिस मुख्यमंत्री को वोट दिया, वो कब उनके सुख-दुःख सुनने आयेंगे.

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन और पीएम मोदी (फोटो सोर्स: DNA)

अंधविश्वास को नहीं मानते योगी

आखिरकार नोएडा वालों की ये आस 2017 में पूरी हुई, जब उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार आई और आदित्यनाथ योगी सारे अंधविश्वासों को तोड़ते हुए नोएडा पहुंचे. हिंदुस्तान की वेबसाइट के मुताबिक योगी पीएम मोदी की अगुवाई में 25 दिसम्बर 2017 को मेट्रो की मेजेंटा लाइन का उद्घाटन करने आये थे. इससे पहले योगी 23 दिसम्बर को नोएडा तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे थे.

एक साल में 4 बार नोएडा पहुंचे योगी

दरअसल नोएडा सेक्टर 81 में दक्षिण कोरिया की कम्पनी सैमसंग की एक नई इकाई बनी है, जिसके उद्घाटन में पीएम मोदी के साथ दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन सोमवार को शामिल होंगे. इसको लेकर रविवार को ही योगी ने नोएडा जाकर तैयारियों का जायजा लिया. ऐसे में योगी एक साल के अंदर ही चार बार नोएडा जा चुके हैं. इसको देखते हुए रिपब्लिक की तरफ से लिखा गया है कि, ‘योगी ने एक साल में 4 बार नोएडा आकर यह अंधविश्वास तोड़ दिया है कि नोएडा आने से कुर्सी चली जाती है.’

NOIDA में सैमसंग की नई इकाई खुलने से रोजगार के अवसर भी होंगे (फोटो सोर्स: New Indian Express)

योगी नोएडा आते हैं तो विरोधियों को परेशानी होती है

इस अंधविश्वास को दरकिनार कर योगी ने बता दिया कि नोएडा भी उनके अधिकार क्षेत्र में आता है और वहां के लोगों के लिए भी वो मुख्यमंत्री हैं, तो ऐसे में विरोधियों को तगड़ा झटका लगा है.

Facebook Comments