जहां अटल जी के लिए पूरे देश में गम है वहीं मॉरिशस ने वाजपेयी जी के लिए किया बड़ा ऐलान !

22

16 अगस्त भारतीय इतिहास का ऐसा दिन बन गया जो करोड़ों लोगों की संवेदना के लिए हमेशा याद किया जायेगा. जब एम्स के डॉक्टरों ने प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि देश के 3 बार प्रधानमंत्री रह चुके अटल बिहारी वाजपेई जी अब इस दुनिया में नहीं रहे. 5 बजकर 5 मिनट पर उनके निधन होने की पुष्टि की गयी. उनके निधन के बाद तो मानों जैसे पूरे देश में दुखों का पहाड़ टूट गया हो. जिसने भी ये खबर सुनी आंखें नम हो गईं. देश ही नही बल्कि दुनिया में अपनी धाक जमाने वाले इस प्रभावशाली नेता के मृत्यु की खबर सभी को भावुक कर गयी.

अटल जी के निधन पर दिल्ली में स्थित ब्रिटिश हाई कमीशन ने अपने राष्ट्रीय ध्वज को आधा झुका दिया था (फोटो सोर्स: ANI)

देशभर में दिखा अटल जी के लिए प्यार और दुःख

अटल जी के व्यक्तित्व और उनकी दुनिया पर छाप का असर इसी बात से समझा जा सकता है कि भूटान, नेपाल अफगानिस्तान के बड़े नेता उनके अंतिम संस्कार में शामिल होने दिल्ली आये थे. चीन और अमेरिका ने भी अपने दुःख को प्रकट किया. ब्रिटेन ने तो दिल्ली में स्थित अपने हाई कमीशन पर लहराते झंडे को अटल जी के सम्मान में आधा झुका दिया.

साइबर टावर (फोटो सोर्स: architizer.com)

इन सबके बाद अटल जी के सम्मान के लिए अब मॉरिशस से एक खबर ऐसी आ रही है जो हर भारतीय को अटल जी पर गर्व करने के लिए एक बार फिर से मजबूर करे देगी. बता दें कि मॉरिशस ने ऐलान किया है कि उसके देश के सबसे बड़े साइबर टावर को अटल जी के नाम पर रखा जायेगा.

अटल जी के सम्मान में

इस ऐलान के पहले 17 अगस्त को मॉरिशस ने अटल जी की याद में अपने राष्ट्रीय ध्वज को आधा झुकाए रखा. इसके बाद मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविन्द कुमार जगन्नाथ ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि, “मॉरिशस के सबसे बड़े टावर जिसे ‘साइबर टावर’ के नाम से जाना जाता था, उसे अब ‘अटल बिहारी वाजपेयी टावर’ के नाम से जाना जायेगा.”

मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जगन्नाथ (फोटो सोर्स: दैनिक जागरण)

निधन की खबर सुनी तो मॉरिशस के प्रधानमंत्री ने..

बता दें कि यह फैसला अटल जी के सम्मान में लिया गया है. मॉरिशस के प्रधानमंत्री ने यह बात शनिवार को शुरू हुए 11वें विश्व हिंदी दिवस के कार्यक्रम में कही. अटल जी के निधन की खबर पाकर प्रविंद कुमार जगन्नाथ काफी दुखी हो गये थे और उन्होंने एक चिट्ठी लिखकर पीएम मोदी को भेजी. जिसमें उन्हें अटल जी के निधन पर शोक व्यक्त किया था.

Loading...
Loading...