मुसलमानों का बीजेपी की तरफ झुकाव को लेकर आये सर्वे के आंकड़े, देखकर समर्थक और विरोधी सब दंग रह जायेंगे

आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं. मोदी सरकार को सत्ता में आये हुए 4 साल से ज्यादा का समय बीत गया है. 4 साल के कार्यकाल में मोदी सरकार ने तमाम उपलब्धियां हासिल की हैं. ये सिलसिला अभी जारी है. पीएम मोदी के सत्ता में आने के बाद से बीजेपी ने देश के अधिकतर राज्यों में अपनी जीत का परचम लहराया है. देश के अलग-अलग हिस्सों में छोटे हो या बड़े चुनाव, सभी में बीजेपी ने प्रचंड बहुमत हासिल किया है. मगर मुसलमानों को लेकर हमेशा यही खबरें आती रही कि मुस्लिम समुदाय के लोग पारंपरिक तरीके से भाजपा को वोट नहीं देते हैं. अब मुस्लिम समुदाय के लोगों को लेकर ऐसे आंकड़े सामने आये हैं, जिन्हें देखने के बाद कईयों के होश उड़ जायेंगे.

Image Source-NDTV.com

जानकारी के लिए बता दें पीएम मोदी ने हर वर्ग और समुदाय के लोगों को ध्यान में रखते हुए विकास किया है. वह सभी धर्मों का सम्मान करते हैं. कुछ लोगों का कहना है कि मोदी सरकार मुस्लिम विरोधी है तो ऐसे लोगों को बता दें पीएम मोदी खुद कई बार मस्जिद में पहुंचे और उन्होंने मुस्लिम महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए तीन तलाक के खिलाफ कानून बनाकर रिकॉर्ड दर्ज कर दिया है. अब से तीन तलाक कानूनन अपराध हो गया है और ऐसा करने वाले को दण्डित भी किया जायेगा. सरकार के इन कदम के बाद से मुस्लिम समुदाय के लोग जाग्रत हुए हैं और बीजेपी की तरफ आकर्षित हुए हैं.

Image Source-ZeeNews

अभी हाल ही में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कार्यक्रम के दौरान कहा था कि ऐसा नहीं है कि संघ में मुस्लिमों के लिए कोई जगह नहीं है बल्कि हिंदुत्व तो मुसलमानों के बिना अधूरा है. इसी के साथ उन्होंने यह बात भी कही थी कि संघ हर वर्ग के लोगों को साथ लेकर चलने का काम करता है. अगर आंकड़ों पर ध्यान दिया जाए तो नेशनल इलेक्शन सर्वे-2014 और लोकनीति–सीएसडीएस के मूड ऑफ द नेशन सर्वे के पोस्ट पोल सर्वे के मुताबिक 2014 के लोकसभा चुनावों में 10 में से एक मुसलमान ने बीजेपी को वोट दिया था. जिसमें से सबसे ज्यादा राजस्थान, कर्नाटक और गुजरात के मुस्लिमों ने सबसे ज्यादा 15 % फीसदी लोगों ने बीजेपी को वोट दिया था.

Image Source-Jansatta

गौरतलब है कि 2017 से 2018 के मूड ऑफ़ द नेशन सर्वे के अनुसार मुस्लिमों को लेकर बड़े नतीजे सामने आये हैं. यह सर्वे कई राज्यों में किया गया है. जिसके आंकड़े देखने के बाद कांग्रेस के होश उड़ जायेंगे. जी हाँ छत्तीसगढ़, झारखंड, एमपी, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और उत्तर-प्रदेश में से 5 से 15 फीसदी लोगों ने बीजेपी को वोट देने की बात कही है. वहीँ असम, जम्मू-कश्मीर, बिहार, केरल और पश्चिम बंगाल में 5 फीसदी भी वोट बीजेपी के पक्ष में मुस्लिम नही देते देखे गये हैं. सर्वे के अनुसार 1998 के लोकसभा चुनावों में देश के 6 फीसदी मुसलमानों ने भाजपा को वोट दिया था, वहीँ इस सर्वे के अनुसार यह आंकड़ा 2018 में हुए चुनावों में 10 फीसदी हो गया है. सर्वे के अनुसार 1998 से लेकर 2018 तक के बीच मुसलमानों की दिलचस्पी बीजेपी की तरफ 70 फीसदी बढ़ गयी है. जिनमें आर्थिक रूप से समृद्ध, पढ़े-लिखे,अंतर धार्मिक विवाह के हिमायती रहे मुसलमानों के साथ युवा और महिलाओं की संख्या ज्यादा है. 10 वीं से ज्यादा पढ़े लिखे मुस्लिम 55 फीसदी बीजेपी की तरफ आकर्षित हुए हैं. वहीँ अगर मुस्लिम महिलाओं की बात करें तो 56 फीसदी महिलाएं बीजेपी की तरफ हैं. इन आंकड़ों को देखने के बाद सोनिया गाँधी भी सदमे में पहुंच सकती हैं.

News Source-Jansatta