डोकलम को लेकर छिड़े विवाद पर जब चीनी युवाओं से उनकी राय पता लगाने की कोशिश की गयी तो हुआ हैरान करने वाला खुलासा !

भारत और चीन के संबंध इन दिनों कुछ खास अच्छे नही चल रहे और इसी को देखते हुए दोनों देशों की सेना डोकलम में तैनात हो चुकी हैं. जहां इस मुद्दे को लेकर देशभर में चर्चा बनी हुई है और सभी इस मामले की अपडेट्स जानना चाहते हैं तो वहीं चीन के युवाओं से जब इस विवाद के बारे में जाना गया तो बेहद चौकाने वाले आंकड़े सामने आये. दरअसल चीनी मीडिया आये दिन भारत पर आरोप लगाकर धमकी देता रहता है कि ‘भारत के लिए ये ठीक नही है कि दोनों देशों की सेना आमने सामने हो, ऐसे में भारत को चाहिए कि वो अपनी सेना हटा ले.’ जिसके जवाब में भारतीय विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने चीन को मुंहतोड़ जवाब देते हुए कहा कि “चीन की कोई भी शर्त नही मानी जाएगी, जबतक चीन की सेना डोकलम से नही हटती तबतक भारतीय सेना भी वहां मौजूद रहेगी.”

Source

चीन के युवा इस विवाद को लेकर क्या सोचते हैं

आप सब जानते ही हैं कि डोकलाम विवाद को लेकर भारत और चीन के बीच काफी समय से तनाव बना हुआ है. चीन की मीडिया भी इस मामले को तूल देने में लगा हुआ है और मौका पाते ही भारत पर निशाना साधने लगता है. चीनी मीडिया की चाल है कि वो अपने संसाधनों से अपने देश के लोगों को भारत के खिलाफ भड़काए लेकिन जब वहां के युवाओं की सोच पता लगाने की कोशिश की गयी तो जो आंकड़े सामने आये वो भारत से बेहद अलग थे.

Source

आपको बता दें एक अंग्रेजी अख़बार के मुताबिक पता चला है कि चीन की सरकारी मीडिया को वहां के युवा ज्यादा तवज्जो नहीं देते. चीनी युवाओं के रुझान को पता लगाने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया गया.

Source

सीना वीबो जोकि चीन की फेमस सोशल मीडिया है उसपर जो टॉप 50 मुद्दे ट्रेंड कर रहे थे, उसमें डोकलाम विवाद का कहीं नामोंनिशान ही नही था. जिस तरीके से ट्विटर फेमस है उसी तरीके से सीना वीबो चीन का ट्टिवर कहा जाता है और चीन में काफी प्रयोग किया जाता है. चीन की काफी लोकप्रिय माइक्रो ब्लॉगिंग साइट वीबो का इस्तेमाल लगभग 34 करोड़ यूजर्स करते हैं.

Source

इसके अलावा कम्युनिस्ट पार्टी के बड़े नेता भी भारत के खिलाफ माहौल बनाने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने से बचते हुए नजर आते हैं. टाइम्स ऑफ इंडिया को सीना वीबो की पोस्ट्स का अध्ययन करने वाले एक शोधार्थी ने बताया कि डोकलाम विवाद को लेकर मुश्किल से कुछ हजार पोस्ट होती होंगी. 22 जुलाई को जो टॉप ट्रेंड करने वाले मुद्दे को 896,592 लोग फॉलो कर रहे थे जबकि 50वें नंबर पर ट्रेंड कर रहे टॉपिक को 39,039 लोग फॉलो कर रहे थे.

Source

सीनो वीबो के लगभग 70 फीसदी यूजर्स 30 साल से कम की उम्र के हैं और चीन के युवा सोशल मीडिया पर काफी ऐक्टिव हैं. डोकलम को लेकर ज्यादातर चीनी मीडिया से ही पोस्ट आती हैं. सरकारी टैबलॉयड ग्लोबल टाइम्स ने तिब्बती झंडा फहराए जाने को लेकर 10 जुलाई को अपने संपादकीय में लिखा था कि अगर डोकलाम विवाद पर इंडिया ने तिब्बत कार्ड खेला तो हिन्दुस्तान खुद जल जाएगा. जिसके जवाब में विदेशमंत्री ने खूब लताड़ा था और चीन को माकूल जवाब दिया था.

देखें वीडियो:

भारत और चीन के बीच हुए 1962 के युद्ध में भारत को हार जरूर मिली थी लेकिन तब हिंदुस्तान कुछ साल पहले ही आजाद हुआ था और उसके पास उतनी क्षमता नही थी लेकिन आज की स्थिति कुछ और है. इस वीडियो को देखकर अप खुद समझ जायेंगे की उस हार के बाद कैसे भारत ने चीन को धुल चटाई थी.