’17 जुलाई को संसद में जो हुआ’ वो आपको पीएम मोदी की वाहवाही करने पर मजबूर कर देगा !

चार साल बीत चुके हैं इस सरकार को, अगले साल फिर से आपको वोट देना होगा, वोट आप किसे देंगे ये आप पर है लेकिन इतना तो तय है कि मोदी के खिलाफ दूसरी पार्टियों में कोई ऐसा नेता नहीं है जो भाजपा को टक्कर दे सके. ‘महागठबंधन’ के नाम का एक सगूफा जरूर छोड़ा गया है, सारे विरोधी दल अपने स्वार्थ के चलते मोदी विरोध में एकसाथ आ रहे हैं. हालाँकि इससे थोड़ी परेशानी जरूर हो सकती है लेकिन इसके बाद भी 2019 में मोदी सरकार की वापसी संभव है.

देश के तमाम दल इसी कोशिश में लगे हैं किसी तरह से मोदी को हराया जाय (फोटो सोर्स: Punjab Kesari)

वैसे दूसरे दलों ने मोदी विरोध में मोर्चा भले ही खोल दिया हो लेकिन 17 जुलाई को संसद में कुछ ऐसा देखने को मिला जिसे देखने के बाद आप भी पीएम मोदी की तारीफ़ करेंगे. दरअसल संसद के ‘मानसून सत्र’ की शुरुआत से एक दिन पहले सर्वदलीय बैठक बुलाई गयी थी. जिसमें भाजपा के अलावा दूसरे तमाम दलों के नेता शामिल हुए थे. इस बैठक में सदन के विपक्ष दल के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे भी शामिल हुए.

पीएम मोदी ने सर्वदलीय बैठक के बाद कुछ तस्वीरें अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर की थी

बैठक ख़त्म होने के बाद पीएम मोदी ने अपनी और मल्लिकार्जुन खड़गे की साथ वाली एक फोटो अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर की. जिसमें पीएम मोदी हंसने की मुद्रा में विपक्षी नेता मल्लिकार्जुन का हाथ पकड़े दिखाई दे रहे थे. फोटो को देखकर लग ही नही रहा था कि दूसरे दलों के नेता मोदी जी का इतना विरोध करते हैं. वैसे पिछले कुछ महीनों में देखा गया है कि विरोधी दल सदन में सत्र नहीं चलने देते और हंगामे की बीच पूरा सत्र खराब हो जाता है. इसके बावजूद पीएम मोदी सभी को साथ लेकर चलने की नीति पर काम कर रहे हैं. जो इस फोटो से साफ़ झलक रहा है.

पीएम मोदी मल्लिकार्जुन खड़गे का हाथ पकड़कर किसी बात पर हँसते हुए (फोटो सोर्स: ट्विटर)

बता दें कि मोदी सरकार ‘सबका साथ-सबका विकास’ की नीति अपने प्रतिद्वंदियों के लिए भी अपना रही है, क्योंकि सिर्फ मोदी सरकार ही ऐसी सरकार है जो जानती है कि वैचारिक मतभेदों के चलते व्यक्तिगत मतभेद ठीक नहीं होते. इसलिए पीएम मोदी तमाम दलों से मतभेद होते हुए भी सबको साथ लेकर चलने में यकीन रखते हैं. फोटो को देखकर आप ये बात आसानी से समझ सकते हैं.

तनावपूर्ण माहौल को भी पीएम मोदी खुशनुमा करना अच्छे से जानते हैं (फोटो सोर्स: ट्विटर)

इन सारी बातों से हमारी कोशिश यही समझाने की है कि आज अगर भारत के कदम रफ्तार के साथ आगे बढ़ रहे हैं तो उसमें मोदी सरकार की सूझबूझ का बड़ा योगदान है. आप पीएम मोदी की शख्सियत को समझेंगे, तो पाएंगे कि उनके दल के नाराज नेता हों या फिर विरोधी, सबको एक साथ लेकर चलना कोई उनसे सीखे. ऐसे कई मौके देखने को मिले हैं जब पीएम मोदी ने अपनी दरियादिली और सूझबूझ का परिचय दिया है, जिससे साबित होता है कि भारत में उनके जैसा नेता आज के समय में कोई और नहीं है.

आपके लिए एक सवाल:

आपको लगता है कि पीएम की इस पहल के बाद भी विपक्ष मानसून सत्र चलने देगा ?

Loading...
Loading...