राफेल विमान की वो खूबियाँ जो पाकिस्तान और चीन की नाक में दम कर देंगी, हर भारतीय जानें

राफेल डील को लेकर कांग्रेस ने जमकर मोदी सरकार के खिलाफ झूठ फैलाया था और लोगों को गुमराह करने का पूरा प्रयास किया था. हालाँकि उनके झूठ कई बार पकड़े जाते रहे लेकिन फिर भी लोगों को मोदी सरकार पर अंदेशा होने लगा. जिसके बाद कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में इस डील की जाँच के लिए याचिका दायर की थी और कहा था कि मोदी सरकार इस डील क सार्वजनिक करे. 14 दिसंबर यानी आज केंद्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी राहत देते हुए इस डील को चुनौती देने वाली सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया है. शुक्रवार को प्रमुख न्यायधीश ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा है कि हम इससे संतुष्ट हैं कि प्रक्रिया में कोई विशेष कमी नहीं रही है.

Image Source-rediff.com

जानकारी के लिए बता दें केंद्र में बीजेपी की सरकार आने के बाद से ही पीएम मोदी ने भारत को हर क्षेत्र में मजबूत बनाने को लेकर काम किया था, जिसमें से रक्षा क्षेत्र का मामला प्रमुख था. देश की रक्षा को ध्यान में रखते हुए और दुश्मनों के छक्के छुड़ाने के लिए ही उन्होंने फ्रांस के साथ राफेल विमानों की डील की थी. जिसको लेकर कांग्रेस ने इतना बवाल मचाया था. सुप्रीम कोर्ट के न्यायधीश रंजन गोगोई ने कहा है कि भारत को विमान की जरुरत है. विमान की क्षमता पर शक नहीं है. बता दें साल 2016 में फ़्रांस के साथ 36 लड़ाकू विमानों की डील भारत ने की थी. मगर आज हम आपको राफेल विमान की उन खूबियों के बारे में बतायेंगे, जोकि चीन और पाकिस्तान की नाक में दम कर सकती हैं.

Image Source-Hindustan Times

राफेल विमान के आने से भारत की वायु सेना की ताकत में भारी इजाफा होगा और दुशमन देश थर-थर कांपेंगे. इस विमान की सबसे ख़ास बात तो ये है कि वो हवा से हवा और हवा से जमीन पर हमले के साथ परमाणु हमले करने में भी सक्षम हैं. ये विमान बहुत ही कम ऊंचाई पर उड़ान के साथ हवा में मिसाइल दाग सकता है. इस डील के लिए पीएम मोदी ने खुद फ्रांस का दौरा किया था और इस सौदे के लिए हस्ताक्षर किये थे. फ्रांस से आने वाले इन विमानों को दो स्क्वाड्रन में बांटा जाएगा. जिसमें एक स्क्वाड्रन के तहत आने वाले 16 से 18 लड़ाकू विमान रखे जाते हैं.

Image Source-Younews.in

गौरतलब है कि पहले स्क्वाड्रन को पाकिस्तान से मुकाबले के लिए अंबाला और दूसरे को चीन से मुकाबले के लिए पश्चिम बंगाल के हाशिमपुरा में तैनात किया जाना है. ये विमान युद्ध हो या आपदा दोनों ही कामों के लिए बेहद उपयोगी है. ये विमान एक बार में 26 हजार किलोग्राम वजन ले जाने में सक्षम है. इतना ही नही 36 से 60 हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ान भर सकता है. सबसे खास बात ये है कि भारतीय वायुसेना के पास अब तक ऐसा कोई विमान नहीं है जो एक बार फ्यूल भरने पर 10 घंटे की लगातार उड़ान भर सके. लेकिन राफेल में ये भी खासियत है. राफेल एक मिनट में 2500 राउंड फायरिंग कर सकता है और विमान के दोनों तरफ से 30 एमएम की तोप से गोले दागे जा सकते हैं. राफेल टोही क्षमता, क्लोज एयर सपोर्ट, एयर डिफेंस, परमाणु हमले, एंटी शिप अटैक और लेजर निर्देशित दूरी की मिसाइल के हमले में सक्षम है. भारतीय वायु सेना में शामिल होने जा रहे राफेल विमान की खासियत पाकिस्तान और चीन  की नाम में दम करने के लिए काफी है.

Loading...
Loading...