IAS मुकेश की मौत में हुआ बड़ा खुलासा, आत्महत्या करने के लिए पटरी पर गर्दन रखने से पहले मुकेश कर रहे थे कुछ ऐसा जिसे देखकर..

23513

2012 बैच के आईएएस ऑफिसर और बक्सर के डीएम की अचानक आत्महत्या से उनके घर-परिवार सहित उनके सभी दोस्त इस ख़बर से सदमे में हैं. बताया जा रहा है कि बक्सर जिले के डीएम मुकेश पांडे को आत्महत्या करने से रोकने के लिए तमाम कोशिशें की गईं थीं लेकिन इस अनहोनी को किसी भी हालात में टाला नहीं जा सका. बताया जा रहा है कि डीएम मुकेश पांडे 4 अगस्त को डीएम का चार्ज लेने के बाद छुट्टी लेकर दिल्ली में चाणक्यपुरी के लीला होटेल में ठहरे थे.

source

बताया जा रहा है कि डीएम के होटल में जाने के करीब 10 घंटे बाद ही उनका शव गाजियाबाद स्टेशन से 1 किलोमीटर दूर कोटगांव के पास रेलवे ट्रैक पर कटा हुआ मिला. हालांकि उनके शव को देखने के बाद उनकी पत्नी आयुषी ने जो सच बयां किया उसने सबको सकते में डाल दिया.

source

डीएम मयंक के सुसाइड में सबसे ज्यादा चौंकाने वाली बात ये निकल कर आई है कि उन्होंने अपने सुसाइड से पहले अपने कई दोस्तों और रिश्तेदारों को एसएमएस कर अपने सुसाइड करने की जानकारी दी थी.

source

मिली जानकारी के अनुसार मयंक का मैसेज मिलते ही उनके दोस्तों ने उन्हें दिल्ली पुलिस की मदद से दिल्ली के मॉल्स में ढूंढना शुरू कर दिया था लेकिन तबतक मयंक ने गाजियाबाद में जाकर सुसाइड कर लिया था. देर रात घटनास्थल पर पहुंची मुकेश की पत्नी आयुषी, सास, ससुर और साला बेसुध दिखे.

source

ऐसे में अब आईएएस मुकेश की आत्महत्या में एक नया मोड़ आ गया है 

दरअसल आईएएस मुकेश की आत्महत्या के बाद जब मौके पर लगे CCTV फुटेज खंगाले गए तो जो सच्चाई सामने आई है वो उनकी मौत से भी ज्यादा खौफनाक है.

source

करीब 15 मिनट तक पटरी पर टहलते रहे थे मुकेश 

इस मामले की जांच कर रहे सीओ जीआरपी रणधीर सिंह ने बताया कि उन्हें घटना के दौरान ट्रैक पर खड़ी एक मालगाड़ी के चालक ने बताया कि मुकेश आत्महत्या से करीब 15 मिनट पहले तक पटरी के आसपास ही टहल रहे थे. कभी वो पटरी पर बैठ जाते तो कभी अपने आप से ही बात करने लग रहे थे.

source 

ऐसे में शक जताया जा रहा है कि मुकेश जनकपुरी स्टेशन से मेट्रो लेकर आनंद विहार आए. इसके बाद वहां से लोकल ट्रेन लेकर मुकेश गाजियाबाद पहुंचे और वहां जाकर उन्होंने सुसाइड कर लिया. सीओ ने आगे बताया कि जिस जगह पर मुकेश का शव मिला उस पटरी के बाहर ही उनकी चप्पल उतरीं मिली थीं.

source

बताया जा रहा है कि शुरुआती जांच में तो लग रहा था कि मुकेश पटरी पर गरदन रखकर लेट गए थे जिससे उनकी मौत हो गयी. हालांकि गाजियाबाद रेलवे स्टेशन की सीसीटीवी फुटेज की जांच में वह दिखाई नहीं दे रहे हैं. ऐसे में जीआरपी अधिकारी मान रहे हैं कि सुसाइड से पहले मुकेश गाजियाबाद स्टेशन पर ट्रेन की बजाय सड़क मार्ग से पहुंचे थे. पोस्टमार्टम के दौरान मुकेश के ससुर, पत्नी, उत्कर्ष और उनका एक और साला और मुकेश के दो चचेरे भाई भी पोस्टमार्टम हाउस में मौजूद थे.

source

जान लीजिये क्या हुआ था इस दिन: 

डीएम मिनिस्ती एस. के अनुसार बृहस्पतिवार सुबह ही मुकेश पांडेय दिल्ली पहुंचे थे. दिल्ली आकर वह लीला होटल में ठहरे थे. शाम को करीब पांच बजे उन्होंने अपने परिजनों, दोस्तों और बैचमेट को sms किया कि वो सुसाइड करने जा रहे हैं. मैसेज मिलते ही उनके दोस्तों ने तुरंत दिल्ली की सरोजिनी नगर पुलिस को इस बात की सूचना फोन पर दे दी.

source

पुलिस भी तुरंत ही सतर्कता दिखाते हुए लीला पैलेस होटल के कमरे में पहुंची लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी. पुलिस होटल के कमरे में पहुंची तो बालकनी में डीएम का मोबाइल पड़ा था और बैग में एक सुसाइड नोट था.

source

जनकपुरी डिस्ट्रिक्ट सेंटर के एक मॉल की सीसीटीवी फुटेज खंगाली गयी तो उसमे डीएम मयंक दिखाई ज़रूर दिए, लेकिन इससे कोई ख़ास सफलता नहीं मिली. इस बीच वायरलेस पर एनसीआर पुलिस को मामले की सूचना दी गई तो कोटगांव फाटक के पास ट्रेन से कटे एक व्यक्ति से उनकी कद-काठी मिलती दिखी.

source

रेलवे ट्रैक पर मिली लाश के जेब से मिले आईडी कार्ड, पैन कार्ड और विजिटिंग कार्ड से ही उनकी पहचान हो सकी की वो डीएम मयंक हैं. डीएम ने बताया कि सीएमओ की अध्यक्षता में बनाया पैनल आईएएस का पोस्टमार्टम करेगा. उनकी पॉकेट डायरी और पेज पर मिले दोनों सुसाइड नोट में उन्होंने सुसाइड के लिए खुद को जिम्मेदार ठहराया है.

source 

घटनास्थल पर पत्नी ने किया चौंकाने वाला खुलासा:

माहौल दुःख का था लेकिन इसके विपरीत घटनास्थल पर मुकेश के सास-ससुर और पत्नी उन्हें कोसते हुए दिखाई दिए. जहाँ मुकेश के ससुर ने रोते हुए कहा कि सुसाइड के समय मुकेश को तीन माह की दुधमुंही बेटी तक का ख्याल नहीं आया? अगर उन्हें पता होता कि उनका दामाद इतना कायर है तो उससे कभी भी अपनी बेटी की शादी नहीं करते. तो वहीँ रो-रोकर बेहाल मयंक की पत्नी ने कहा कि मुकेश उन्हें धोखा देकर चले गए.

देखिये वीडियो 

सामने आया सुसाइड से पहले का एक वीडियो जिसने सारा मामला ही सुलझा दिया

वीडियो मयंक ने ख़ुद अपनी सुसाइड से पहले बनाया है. वीडियो में कहा गया है कि,

“हेलो
मेरा नाम मुकेश पांडे है और मैं आईएएस 2012 बैच का बिहार कैडर हूं. मेरा घर गुवाहटी के असम में पड़ता है. मेरे पिताजी का नाम सुदेश्वर पांडे है और माता जी का नाम
मेरी पत्नी का नाम गीता पांडे है. मेरे सास-ससुर का नाम राकेश प्रसाद सिंह और पूनम सिंह है. मेरी वाइफ का नाम आयुषी शांडिलय है. जो ये वीडियो देख रहे हैं ये मेरी मौत और सुसाइड से पहले का वीडियो है. जो बक्सर के सर्किट हाउस में रिकॉर्ड किया गया है. यहीं मैंने फैसला लिया कि दिल्ली जाकर अपने जीवन का अंत कर दूंगा. ये फैसला मैंने इसलिए लिया क्योंकि मैं अपने जीवन से खुश नहीं हूं. मेरी वाइफ और माता-पिताजी के पास बहुत तनातनी है. दोनों एक दूसरे से उलझते रहते हैं जिससे की मेरा जीना दुश्वार हो गया है. दोनों की गलत नहीं है दोनों ही अत्याधिक प्रेम करते हैं मुझसे. मगर किसी चीज की अति आदमी को मजबूर कर देती है कि वह बड़ा कदम उठा ले.”

 

Loading...
Loading...