पाकिस्तान की करतूतों से ख़ौला शहीद के पिता का खून और कह डाली ऐसी बात कि मोदी सरकार भी हो जाएगी सोचने पर मजबूर

दक्षिण कश्मीर के शोपियां में हुआ था आतंकी हमला 

गुरुवार को दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले में सुबह-सुबह सेना के काफिले पर घात लगाये बैठे आतंकियों ने हमला कर दिया. आतंकवादी हमले में भारतीय सेना के एक मेजर हल्द्वानी ऊंचापुल निवासी कमलेश पांडे और एक जवान शहीद हो गए थे. मेजर के शहीद होने की खबर के बाद परिवार व पूरे क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ पड़ी. रिपोर्ट के अनुसार घात लगाये आतंकवादियों ने जयपुर गाँव में सेना के एक दल पर गश्ती के दौरान हमला कर दिया.    kamlesh

Source

हमले में मेजर कमलेश पांडे शहीद हो गये थे

हमले में मेजर कमलेश पांडे व साथी सिपाही तन्जीन और कृपाल सिंह सहित तीन जवान घायल हो गये. घायलों को तुरंत बादामी बाग़ छावनी इलाके के अस्पताल पहुँचाया गया जहां मेजर कमलेश पांडे और सिपाही तन्जीन ने दम तोड़ दिया. हमला करने के बाद आतंकी भागने में सफल रहे.

Source

 

पाकिस्तान के साथ युद्ध ही विकल्प 

मुठभेड़ में मारे गये भारतीय सेना के मेजर कमलेश पांडे के पिता मोहन चन्द्र पांडे ने पाकिस्तान के साथ युद्ध करके उसे सबक सिखाने की बात कही है. मोहन पांडे भी सेना से रिटायर हैं. मोहन पांडे ने अपने बेटे के अंतिम संस्कार से पहले मीडिया से बात करते हुए कहा है कि जम्मू-कश्मीर में हिंसा खत्म करने के लिए पाकिस्तान से युद्ध करना ही जरुरी है. तभी पाक अपनी नापाक हरकतों से बाझ आयेगा. “पाकिस्तान के साथ युद्ध ही इसका विकल्प हो सकता है.

Source

लगे “पाकिस्तान मुर्दाबाद” के नारे 

उन्होंने कहा है कि युद्ध के आलावा कोई विकल्प नहीं बचा है. युद्ध होने से 15-20 साल शांति रह सकती है. आपको बता दें कि शुक्रवार 4 अगस्त को कमलेश के पैतृक निवास हल्द्वानी में पूरे सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया. जब मेजर कमलेश पांडे का पार्थिव शरीर उत्तराखंड पहुंचा तो स्थानीय लोगों ने “पाकिस्तान मुर्दाबाद” के नारे लगाना शुरू कर दिया था.

Source

आतंकी हिजबुल ने ली हमले की जिम्मेदारी

गुरुवार को सूत्रों के अनुसार मिली जानकारी से शोपियां जिले के जाईपोरा इलाके में इंटेलिजेंस से खबर मिलने के बाद सेना ने देर रात सर्च  अभियान चलाया गया था. इसी दौरान आतंकियों ने सुरक्षा बलों पर फायरिंग शुरू कर दी थी जिसमे मेजर और 2 जवानों की मृत्यु हो गयी थी. आतंकी हिज्बुल मुजाहिद्दीन ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है.