UAE ने ‘केरल बाढ़’ के लिए 700 करोड़ देने चाहे लेकिन मोदी सरकार ने मना कर दिया, इसके पीछे की वजह जानेंगे तो..

केरल में 100 साल के इतिहास में ऐसा जल प्रलय पहले कभी नहीं आया था. पूरा केरल बाढ़ की चपेट में हैं. हर जगह पानी ही पानी नजर आ रहा है. करीब 14 लाख लोग घर से बेघर हो गये हैं. वहीं 350 से भी अधिक लोगों की जान जा चुकी है. इस आपदा के समय में देशभर से केरल के लिए मदद की जा रही है. मोदी सरकार की तरफ से केरल की सहायता में नौसेना(46 टीम) से लेकर वायु सेना(16 टीम) और थल सेना(18 टीम) को लगाया गया है. आरएसएस की तरफ से भी स्वयं सेवक लोगों की मदद करने में लगे हुए हैं.

केरल में आई तबाही का एक दृश्य (फोटो सोर्स: ग्लोबल न्यूज़)

UAE ने दी 700 करोड़ की मदद, भारत सरकार ने किया मना 

इस आपदा के लिए देश के बाहर से भी मदद करने की ख्वाहिश जताई गयी. UAE (सयुंक्त अरब अमीरात) की तरफ से केरल आपदा में 700 करोड़ रूपये की मदद पेश की गयी लेकिन भारत सरकार ने इस मदद को लेने से इनकार कर दिया. ख़बरों की मानें तो इस इनकार के पीछे तर्क है कि, “सरकार, इस आपदा से निपटने के लिए किसी बाहरी मदद से नहीं बल्कि घरेलू स्तर और प्रयासों पर निर्भर रहना चाहती है.” दरअसल भारत के करीब 30 लाख लोग UAE में काम करते हैं जिसमें से 80% लोग केरल से हैं.

मोदी सरकार खुद पर निर्भर रहना चाहती है (फोटो सोर्स: Hindustan Times)

देश के कई राज्यों ने ही कर दी है करोड़ों की मदद

इस आपदा को देखते हुए देश के गृहमंत्री ने पहले ही 100 करोड़ रूपये की घोषणा की थी. जिसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने इस आपदा से लड़ने के लिए 500 करोड़ रूपये मदद स्वरुप देने की घोषणा की. इतना ही नहीं प्रधानमंत्री राहत कोष की तरफ से मृतक के परिजनों को 2-2 लाख और घायलों को 50-50 हजाररूपये देने की घोषणा की है. इसके अलावा दूसरे राज्यों ने भी करोड़ों रूपये की मदद की घोषणा की है.

दूसरे राज्यों से मिली मदद

इसलिए नहीं लेनी चाही मदद

जब देश के इतने राज्यों और केंद्र से केरल को इतनी मदद दी जा रही है, तो साफ़ जाहिर है कि देश ऐसे विषम परिस्थिति से लड़ने के लिए तैयार और सक्षम है. इसलिए ऐसे में किसी और देश से मदद लेने का सवाल ही नहीं उठता. वाकई सरकार ने जिस वजह से ये पैसे लेने से मना किये हैं वो वाकई गर्व करने लायक है. क्योंकि ये सबको पता है कि मोदी सरकार स्वावलंबी सरकार है, और जबतक हो सकता है वो किसी से मदद लेने के बजाय खुद से ही विषम परिस्थितियों से लड़ने की कोशिश करेगी.

आपके लिए एक सवाल

सरकार द्वारा UAE की मदद ना लेने का फैसला सही है ?